मुख्य पृष्ठ बुनियादी सुविधाये
बुनियादी सुविधाये
अधोसंरचना विस्तार
  • हाईब्रिड नेटवर्क लीज्ड लाईन, वाय-मैक्स एवं बी-सेट से कनेक्टीविटी ।
  • एशिया के सबसे विराट वाय-मैक्स नेटवर्क उपयोग शासकीय कार्यालयों को वायरलेस से जोड़ने में ।
  • छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य, जहां अत्याधुनिक स्टेट नेटवर्क सेंटर, सैटेलाईट हब स्टेशन, राऊटर, स्विचेस, सर्वर तथा साफ्टवेयर का उपयोग।
  • विकासखंड स्तर पर वीडियों क्रांफ्रेन्सिंग सुविधा उपलब्ध ।
  • राज्य मुख्यालय से सभी जिले, विकासखंड और 3500 कार्यालय जुड़ेगे ।
  • शासकीय एवं नागरिक सेवाओं की प्रदायगी हेतु उपयोग ।
  • राज्य में 3500 स्थानों से इंटरनेट फोन माध्यम से संचार सेवाओं की प्रदायगी।
  • यह नेटवर्क राज्य के आपदा प्रबंधन में भी सहायक ।
 
जल सुरक्षा का दशक
  • जल संसाधन विभाग का बजट 111.57 करोड़ रूपये था जिसे बढ़ा कर 1761.82 करोड़ कर दिया गया ।
  • विभिन्न प्रयासों से राज्य की सिंचाई क्षमता 22 प्रतिशत से बढ़ा कर 32 प्रतिशत तक पहंुचा दी गई ।
  • निर्मित सिंचाई क्षमता 13.28 लाख हेक्टेयर से बढ़ कर 17.89 लाख हेक्टेयर हो गई है ।
  • किसानों को सिंचाई कर की बकाया राशि का 50 प्रतिशत भुगतान करने पर शेष 50 प्रतिशत की माफी दी गई।
  • सिंचाई कर माफी से प्रथम वर्ष में 1,44,757 तथा दूसरे वर्ष 1,71,477 किसानों को लाभ मिला।
  • सिंचाई कर माफी योजना से किसानों को 1132.65 लाख रूपयें की छूट मिली ।
  • राज्य गठन से अब तक किसानों का सिंचाई कर बढ़ाया नहीं गया, सिंचाई राजस्व बढ़ाने के लिये औद्योगिक उपयोग हेतु जल प्रदाय की दरों को युक्तियुक्त कर सिंचाई राजस्व 40 करोड़ से बढ़ाकर 159.28 करोड़ किया गया ।
  • किसानों के साथ ही नगरीय निकायों को घरेलु उपयोग हेतु, ताप बिजली घरों को बिजली उत्पादन हेतु एव विभिन्न उद्योगों को औद्योगिक उपयोग हेतु जल उपलब्ध करानें की समुचित और सुचारू व्यवस्था की गई|
 
  • राज्य में 6 वृहद, 32 मध्यम और 2276 लघु सिंचाई योजनायें पूर्ण की जा चुकी हैं। 5 वृहद, 7 मध्यम तथा 7 लघु सिंचाई योजनायें प्रगति पर है।
  • बड़े बांधों के निर्माण से उत्पन्न होने वाले पर्यावरण, विस्थापन, व्यवस्थापन की जटिलताओं से बचने के लिये बड़ें पैमाने पर एनीकट निर्माण की योजना लागू की गई है।
  • 1500 एनीकट निर्माण की परिकल्पना है। 595 एनीकट निर्माण की कार्ययोजना स्वीकृत है।
  • 194 करोड़ रूपयें की लागत से 104 एनीकट बनाये जा चुके है। 644 करोड़ रूपयें की लागत से 110 एनीकट का निर्माण प्रगति पर हैं ।
  • मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की विशेष पहल पर नदियों, तालाबों की सफाई, जीर्णोद्धार, उनकी जलभरण क्षमता में वृद्धि का अभियान चलाया गया है।
  • नगरीय प्रशासन विभाग द्वार गरीब बस्तियों में भागीरथी नल-जल योजना संचालित की जा रही है, जिससे महिलाओं को पीने के पानी के लिये सड़क किनारें खड़े रहने की असुविधा से बचाया जा सकें ।
  • प्रदेश की 32,800 शालाओं में शुद्ध पेयल की व्यवस्था पूरी कर दी गई है।
  • लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग प्रति व्यक्ति प्रतिदिन 70 लीटर शुद्ध पेय जल उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है, जो कि राष्ट्रीय औसत से अधिक है।
अच्छी सड़कों के निर्माण का दशक
  • 54645 किलोमीटर सड़कों का निर्माण किया गया है ।
  • 16607 पुलियों, 660 बड़ें पुलों, 253 मध्यम पुलों का निर्माण किया गया है।
  • 8 रेल्वे ओव्हर ब्रिज का निर्माण पूर्ण किया गया तथा 8 रेल्वे ओव्हर ब्रिज का निर्माण कार्य प्रगति पर है। 1 अण्डर ब्रिज भी पूर्ण किया गया है ।
  • राज्य 13 स्थानों पर बायपास सड़के बनाई गई है ।
 
  • प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत राज्य गठन से लेकर अब तक 17,636 किमी, लंबी 3843 सड़के बनाई जा चुकी है ।
  • इस योजना के तहत 8047 बसाहटें डामरीकृत सड़कों से जोड़ी जा रही चुकी हैं ।
  • नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में 1707 किमी सड़कें बनाई जा रही हैं ।
  • विभिन्न कार्यों के परिणाम स्वरूप राज्य में प्रति 100 वर्ग किमी पर पक्की सड़कों का घनत्व 17 किमी से बढ़कर 21.40 किमी हो गया है।
 
 
जनसुविधाएं- सामाजिक सुरक्षा
  • छत्तीसगढ़ के शहरों को खुशनुमा, खूबसूरत, उत्तम सेवाओं से युक्त, हरा भरा बनाने के लिए गौरवपथ, सरोहर-धरोहर, पुष्पवाटिका, ज्ञानस्थली, उन्ममुक्त खेल मैदान, प्रतीक्षा बस स्टैंड, सांस्कृतिक भवन, हाट बाजार, सार्वजनिक प्रसाधन, प्रवेश द्वार, उद्यान, सड़क, नाली, बिजली, पाइप लाइन विस्तार, मुक्तिधाम एवं मुख्यमंत्री स्वालम्बन सहित अनेक योजनायें संचालित की जा रही है।
 
 
जन-जन की सुरक्षा
  • गृह विभाग का बजट वर्ष 2000 में 268 करोड़ रूपए था, जो 2010 में बढ़कर 1019 करोड़ रूपए कर दिया गया है ।
  • पुलिस बल 22 हजार से बढ़ाकर 49 हजार कर दिया गया है।
  • प्रति वर्ष 4-5 हजार जवानों की भर्ती पुलिस विभाग में की जा रही है ।
  • सुरक्षा बलों का प्रशिक्षित करने के लिए कांकेर में जंगलवार फेयर प्रशिक्षण खोला गया है ।
  • राज्य में एसटीएफ, एन्टीटेररिस्ट फोर्स, काउण्टर टेररिज्म एण्ड एंटी टेररिज्म स्कूल खोले गये है ।
CHOICE से समाधान
आनलाईन नागरिक सेवाओं के लिए चाइस परियोजना संचालित की जा रही है । चाइस केन्द्र में जाकर कोई भी व्यक्ति नागरिक सेवायें और विभिन्ना प्रमाण पत्र यथा जन्म मृत्यु,जाति, मूल निवास, आय, नजूल भूमि अनापत्ति आदि प्राप्त कर सकतें है । बिजली बिल भुगतान कर सकते हैं ।